Never miss a great news story!
Get instant notifications from Economic Times
AllowNot now


You can switch off notifications anytime using browser settings.

प्रॉपर्टी

27 February, 2021, 06:21 PM IST
मिड और हाई रेंज सेगमेंट में बढ़ रही है होम लोन की मांग

मैजिकब्रिक्‍स की रिपोर्ट कहती है कि मांग में रिकवरी के कई कारण हैं. इनमें वर्क फ्रॉम होम के कारण अतिरिक्‍त कमरे की जरूरत, सर्किल रेट, स्‍टैंप ड्यूटी घटना और कम ब्‍याज दरें शामिल हैं.

कोविड-19 ने कैसे बदल दी रियल एस्‍टेट मार्केट की तस्‍वीर?

आम रिटेल निवेशक शेयरों में निवेश करते हुए अनुभव हासिल करने के बारे में सोच सकता है. लेकिन रियल एस्‍टेट में ऐसा नहीं है.

दिल्ली-एनसीआर में घरों की बिक्री में साल 2020 में आई 50 फीसदी गिरावट

दिल्ली-एनसीआर में घरों की बिक्री साल 2020 के दौरान सालाना आधार पर 50 फीसदी की गिरावट के साथ 21,234 यूनिट रही. कोरोना महामारी के चलते मांग में कमी रहने के कारण पिछले साल घरों की बिक्री में कमी दर्ज की गई है.

साउथ दिल्ली में सर्कल रेट में 20 फीसदी कमी से खरीदारों को लुभा सकेगी सरकार

महारानी बाग, पंचशील पार्क और न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी जैसे इलाकों में पिछले कुछ सालों से बहुत कम प्रॉपर्टी ट्रांजैक्शन हो रहे थे

घर खरीदते वक्‍त आपको रियल एस्‍टेट एजेंट को बताना होगा पैसों का स्रोत

रिपोर्टिंग एंटिटी के तौर पर रियल एस्‍टेट एजेंटों को सुनिश्चित करना होगा कि उन्‍होंने घर खरीदार या विक्रेता के पृष्‍ठभूमि को वेरिफाई कर लिया है.

दिल्ली सरकार ने प्रॉपर्टी की सर्किल दरों में की 20% फीसदी की कटौती

दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को सभी क्षेत्रों में आवासीय, कमर्शियल और औद्योगिक प्रॉपर्टीज की सर्किल दरों में 20 फीसदी की कटौती का ऐलान किया.

होम लोन पर टैक्‍स छूट के बारे में ये 5 चीजें आपको जरूर पता होनी चाहिए

नया अपार्टमेंट जीवनसाथी के साथ खरीदने में समझदारी है. इस स्थिति में आप दोनों ब्‍याज की जितनी रकम का भुगतान करते हैं, उस पर दो लाख रुपये का डिडक्‍शन उपलब्‍ध होगा.

45 लाख रुपये तक का घर खरीद रहे हैं? आपके लिए है गुड न्यूज

सेक्‍शन 80ईईए के तहत टैक्‍स योग्‍य इनकम से डिडक्‍शन अब अगले साल 31 मार्च तक उपलब्‍ध होगा. इसमें सिर्फ एक शर्त है. इस बेनिफिट को पाने के लिए आपके पास लोन के सैंक्‍शन होने तक कोई दूसरी प्रॉपर्टी नहीं होनी चाहिए.

टैक्‍स छूट की अवधि बढ़ने से किफायती घरों की मांग बढ़ेगी : रियल्टी उद्योग

जानकारों का कहना है कि टैक्‍स छूट के विस्तार से रियल एस्टेट के सबसे तेजी से बढ़ते सेगमेंट एफोर्डेबल हाउसिंग यानी किफायती आवास की कुल मांग में तेजी आएगी.

घर बना रहे हैं? इन 6 तरीकों से घटा सकते हैं कंस्‍ट्रक्‍शन की कॉस्‍ट

घर बनाने में औसत लागत करीब 1,500 रुपये प्रति वर्ग फीट आती है. महंगे साजो-सामान के साथ लग्‍जरी घरों के लिए यह करीब 2,000 रुपये प्रति वर्ग फीट बैठती है.

घरों की बिक्री बढ़ाने के लिए क्रेडाई ने की बजट में टैक्‍स छूट की मांग

कन्फेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (क्रेडाई) के देशभर में लगभग 20 हजार सदस्य हैं. संगठन ने रियल एस्टेट निवेश न्यास (रीट) में निवेश को बढ़ावा देने के लिए टैक्‍स प्रोत्साहन की भी सिफारिश की.

सस्ते घर वाली योजना 'लाइट हाउस प्रोजेक्ट्स' के बारे में यहां जानिये सब कुछ

योजना के मुताबिक हर शहर में इस तरह के एक हजार आवासों का निर्माण किया जाना है. इन्हें एक साल के भीतर पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

क्या बैंक रपो रेट में कटौती का पूरा फायदा ग्राहकों को देते हैं?

आरबीआई यह उम्मीद करता है कि रेपो रेट में कमी के बाद बैंक भी लोन पर ब्याज दर घटाएंगे.

यह घर खरीदने का बेहतरीन समय : केकी मिस्त्री

पिछले तीन साल में घरों की कीमतें नहीं बढ़ी हैं, जबकि होम लोन की ब्याज दर बहुत नीचे आ चुकी है.

द‍िल्‍ली में घर खरीदना चाहते हैं? डीडीए की नई हाउसिंग स्‍कीम में 2 जनवरी से कर सकते हैं आवेदन

इस स्‍कीम के तहत विभिन्न श्रेणियों के तहत 1350 फ्लैट हैं. ये द्वारका, जसोला, मंगलापुरी, वसंत कुंज और रोहिणी में है.

देश के 8 प्रमुख शहरों में कहां घर खरीदना है सबसे सस्‍ता, कहां सबसे महंगा?

नाइट एंड फ्रैंक इंडिया के अनुसार, देश के प्रमुख आठ शहरों में एफोर्डिबिलिटी रेशियो पिछले दशक के मुकाबले 2020 में उल्लेखनीय रूप से सुधरा है.

Load More...

हमें फॉलो करें


ईटी ऐप हिंदी में डाउनलोड करें


Copyright © 2020 Bennett, Coleman & Co. Ltd. All rights reserved. For reprint rights: Times Syndication Service

BACK TO TOP