Never miss a great news story!
Get instant notifications from Economic Times
AllowNot now


You can switch off notifications anytime using browser settings.

ऋण

07 July, 2020, 07:38 AM IST
क्‍या आपको पैसे की जरूरत पड़ने पर गोल्‍ड लोन लेना चाहिए?

जानकारों का कहना है कि गोल्‍ड लोन लेना फायदेमंद है. इसके कई कारण हैं. पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड जैसे विकल्‍पों पर ब्‍याज का बोझ बहुत ज्‍यादा पड़ता है.

अब 1,000 शहरों में मिलेगा एचडीएफसी बैंक का डिजिटल ऑटो लोन, 10 सेकेंड में आएगा पैसा

वाहन उद्योग से जुड़े लोगों का मानना है कि इस महामारी से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है. सोशल डिस्‍टेंसिंग यानी सामुदायिक दूरी जैसे अंकुशों की वजह से लोग सार्वजनिक परिवहन के बजाय अपने वाहन का इस्तेमाल करना अधिक पसंद करेंगे. इससे वाहनों की मांग बढ़ेगी.

किराये पर ले सकेंगे मारुति की कारें, कंपनी ने शुरू की सर्विस

कोविड-19 संकट के दौरान कारों की बिक्री बढ़ाने और ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने के लिए ऑटो कंपनियां नए-नए तरीके खोज रही हैं.

क्या आप दोस्‍त या रिश्‍तेदार का कर्ज नहीं लौटा पा रहे हैं? इन बातों का ध्यान रखें

अगर आप तुरंत कर्ज लौटा पाने में बिल्‍कुल असमर्थ हैं तो इस बात को साफ-साफ कहें. इसके बाद मदद के दूसरे तरीके तलाशें. ऐसा करने से कर्ज देने वाले को आपके इरादे का पता चलेगा.

म्‍यूचुअल फंड पर तुरंत ले सकते हैं 1 करोड़ का लोन, आईसीआईसीआई बैंक दे रहा है सुविधा

बैंक ने कंप्‍यूटर एज मैनेजमेंट सर्विस (कैम्‍स) के साथ मिलकर इस फैसिल‍िटी को शुरू किया है. यह सुविधा बैंक के ग्राहकों के लिए है. म्‍यूचुअल फंडों पर लोन लेने के लिए ग्राहकों के पास उन स्‍कीमों की यूनिटें होनी चाहिए जिन्‍हें कैम्‍स सेवाएं देता है.

मुश्किल नहीं है क्रेडिट स्कोर में सुधार करना, अपनाएं ये 3 तरीके

वैसे तो क्रेडिट स्‍कोर की रेंज 300 से 900 के बीच होती है. लेकिन, 550 से 700 का स्‍कोर ठीक माना जाता है. 700 से 900 के बीच के स्‍कोर को बहुत अच्‍छा मानते हैं.

मुद्रा योजना : छोटे उद्यमियों को ब्याज में 2 फीसदी सब्सिडी देगी सरकार

पीएमएमवाई के अंतर्गत शिशु श्रेणी के तहत मार्च 2020 के अंत तक करीब 9.37 करोड़ कर्ज खाते थे. इन खातों पर कर्ज के रूप में करीब 1.62 लाख करोड़ रुपये बकाया था.

आईसीआईसीआई बैंक से एफडी पर तुरंत ले सकते हैं एजुकेशन लोन, जानें क्‍या है तरीका

इस फैसिलिटी की मदद से लोग अपने अलावा बच्‍चों, भाई-बहनों और नाती-पोतों की उच्‍च शिक्षा के लिए एजुकेशन लोन ले सकते हैं. दुनियाभर में तमाम मान्‍यता प्राप्‍त कॉलेज और विश्‍वविद्यालयों में पढ़ने के लिए इस लोन के लिए आवेदन किया जा सकता है.

लोन मोरेटोरियम: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, लोन के ब्याज पर ब्याज वसूलना सही नहीं

पीठ ने मामले की अगली सुनवाई अगस्त के पहले सप्ताह में तय करते हुए केंद्र और रिजर्व बैंक से स्थिति की समीक्षा करने को कहा है. साथ ही भारतीय बैंक संघ से कहा है कि क्या वह इस बीच कर्ज किस्त भुगतान के स्थगन मामले में कोई नए दिशानिर्देश ला सकते हैं.

एचडीएफसी ने कर्ज पर ब्‍याज दर घटाई, जानिए ग्राहकों को होगा कितना फायदा

एचडीएफसी रिटेल प्राइम लेंडिंग रेट (आरपीएलआर) पर कर्ज देती है. यह उसकी बेंचमार्क दर है. मार्च से कंपनी इसमें तीन बार कटौती कर चुकी है. इससे कंपनी से कर्ज लेने वाले ग्राहकों के इंटरेस्‍ट पेमेंट में कमी आई है.

पर्सनल लोन मिलने में होगी मुश्किल, नियमों को सख्‍त बना रहे हैं बैंक

रिपोर्ट के अनुसार, पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड में डिफॉल्‍ट का रेट सबसे ज्‍यादा बढ़ेगा. वहीं, होम लोन और ऑटो लोन में ऐसा कम होगा. यही कारण है कि बैंक पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड के ग्राहकों को चुनने में ज्‍यादा सेलेक्टिव अप्रोच रखेंगे.

क्‍या ईएमआई के जरिये क्रेडिट कार्ड बिल का पेमेंट करना चाहिए?

यह उन लोगों के लिए सुविधाजनक विकल्‍प है जो समय से क्रेडिट कार्ड के बकाये का पूरा भुगतान नहीं कर सकते हैं. इसका आपके क्रेडिट स्कोर पर कम असर पड़ता है.

इन बैंकों का कर्ज हुआ सस्‍ता, जानिए कितनी घटाई ब्‍याज दर

इन सभी ने मार्जिनल कॉस्‍ट ऑफ फंड्स बेस्‍ड लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) में कटौती का एलान किया है.

केनरा बैंक ने कर्ज पर ब्‍याज दर घटाई, जानें नए रेट

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने मई में रेपो दर में 0.40 फीसदी की कटौती की थी. इसके बार रेपो रेट चार फीसदी रह गया है. तभी से तमाम बैंक कर्ज पर अपनी ब्‍याज दरें घटा रहे हैं.

एसबीआई का कर्ज हुआ सस्‍ता, जानिए कितनी घटाई ब्‍याज दर

रिजर्व बैंक ने 22 मई को रेपो दर में 0.40 फीसदी की कटौती कर उसे चार फीसदी कर दिया. उसके बाद स्टेट बैंक ने कर्ज की ब्याज दर यह कटौती की है.

लोन मोरेटोरियम का भविष्‍य की ईएमआई पर कैसे पड़ेगा असर?

शुरू में मोहलत का विकल्‍प नहीं लेने वाला सैलरीड क्‍लास व्‍यापक पैमाने पर सैलरी में कटौती और छंटनी के बाद इसे चुन सकता है. एविएशन, टूरिज्‍म, हॉस्पिटैलिटी, ट्रांसपोर्टेशन और मीडिया जैसे सेक्‍टर खासतौर से चुभन को महसूस कर रहे हैं.

Load More...

हमें फॉलो करें


ईटी ऐप हिंदी में डाउनलोड करें


Copyright © 2020 Bennett, Coleman & Co. Ltd. All rights reserved. For reprint rights: Times Syndication Service

BACK TO TOP